Save on all your Printing Needs at 4inkjets.com!

A Lovers Statement

By: praveen gola

Page 1, This Hindi romantic poem describes love in a foggy night. Her red lips covered by his and her lithe body in his hands, a dreamy encounter of lovers.

जो नहीं हुआ है अब तक …….गर वो हुआ होता ,
तो तू ख्यालों से परे  ……मेरी बाहों में होता ।
तेरे गेसुओं ने गिरकर ……मेरी धडकनों को छुआ होता ,
मैं तुझमें और तू मुझमें ……कहीं छुपा होता ।

जो नहीं हुआ है अब तक …….गर वो हुआ होता ,
तो तू ख्यालों से परे  ……मेरी बाहों में होता ।
तेरे सुर्ख से लबों पर …….मेरे लबों का पहरा होता ,
एक जलती हुई आग होती …….जहां बस धुआँ होता ।

जो नहीं हुआ है अब तक …….गर वो हुआ होता ,
तो तू ख्यालों से परे  ……मेरी बाहों में होता ।
मेरे सीने पर तेरे ……..सर का कब्ज़ा होता ,
तेरे हाथों में मेरे ……कमर का घेरा होता ।

जो नहीं हुआ है अब तक …….गर वो हुआ होता ,
तो तू ख्यालों से परे  ……मेरी बाहों में होता ।
तेरी बेचैनी को मैंने …….अपने जज्बातों में घोला होता ,
तू मचल-मचल कर मेरे ……जिस्म के अन्दर होता ।

जो नहीं हुआ है अब तक …….गर वो हुआ होता ,
तो तू ख्यालों से परे  ……मेरी बाहों में होता ।
तू कशमकश में होकर …..मेरे साथ पिघल रहा होता ,
मैं तेरी चाहत को …….अपने सपनों में पिरोता ।

जो नहीं हुआ है अब तक …….गर वो हुआ होता ,
तो तू ख्यालों से परे  ……मेरी बाहों में होता ।
तेरी हर आह में ……मेरा नाम लबों पर होता ,
मैं उस नाम के साथ ……तुझे जाम बना संजोता ।

जो नहीं हुआ है अब तक …….गर वो हुआ होता ,
तो तू ख्यालों से परे  ……मेरी बाहों में होता ।
तू बनकर मदिरा ……मुझे नशे से जब भिगोता ,
मैं हर चढ़ते हुए नशे में …….तेरे मदिरालय में होता ।

तूने पूछा था मुझसे एक दिन …..गर मेरा साथ तुझे मिला होता ,
तो मैं क्या ऐसा करता …..जो तुझे सबसे अलग लगा होता ।
तेरे जिस्म ~ओ ~जान को तब मैं …….अपने अन्दर इस तरह समोता ,
कि उसमे जो भी रंग भरता ……हर उस रंग में नशा होता ।।

© Copyright 2014praveen gola All rights reserved. praveen gola has granted theNextBigWriter, LLC non-exclusive rights to display this work on Booksie.com.

© 2014 Booksie | All rights reserved.