Welcome Visitor: Login to the siteJoin the site

An Adolescent Dilemma- A Lesson

Poetry By: praveen gola
Literary fiction



Read this Poetry

This Hindi poem highlights infatuation and physical attraction to opposite sex during adolescence. This change over period is crucial and needs proper guidance.


Submitted:Jan 9, 2013    Reads: 5    Comments: 0    Likes: 0   


white-feather-blue-back

यूँ अचानक से एक बवाल आया ….
मेरे मन में उसे छूने का एक ख्याल आया ,
हाँ मैं भी कदम रख चुका हूँ ……
किशोरावस्था की सीढ़ी पर चढ़ चुका हूँ ।

संगी-साथी कक्षा में करते हैं बातें …..
लड़के-लड़कियों के किस्से बताते सुनाते ,
कैसे मैं अपने पर काबू रखूँ ?
इस चुम्बकीय आकर्षण से अछूता रहूँ ।

समझते नहीं कोई मेरी व्यथा को ,
होता है क्या मेरी अंतरात्मा को ?
इस उम्र से कभी तो तुम भी थे गुज़रे ….
फिर क्यों कहते हो मुझे ,कि हुए नहीं साल पूरे ।

मैं अकेला सा बैठा सोचा करता हूँ …..
कि किससे मैं पूछूँ इस उम्र का तराना ,
कैसे मैं रोकूँ ….इस आँधी -तूफ़ान को ?
जो पल में जला देगा …मेरे भविष्य का शामियाना ।

सुनकर मैं बोली -उस किशोर की बातें ……
कि आओ सिखाऊँ तुम्हे तरीका ,पार करने का ये रातें ,
जब ख्वाइश हो मन में किसी को छूने की …..
तब आँख बंद करके लो गहरी साँस सीने की ।

अभी वक़्त नहीं आया ……तुम्हारा किसी से मिलन का ,
मत खोजो इस नाजुक उमर में …. रास्ता भंवर का,
ध्यान को एक बिंदु पर केन्द्रित करके ……
सोचो सिर्फ एक "बिन्दु" निर्धारित करके ।

सोचो वो सपनो से ….. हकीकत की दुनिया ,
जब नाम चमकेगा तुम्हारा ……और पढ़ेगी ये दुनिया ,
तब हँसोगे सोचकर ….. ये मिथ्या सी बातें,
कि क्यों करता था मैं …..किसी को छूने की बातें ।

हर उम्र का एक पड़ाव आता है …..
समय के साथ उस पर आगे बड़ा जाता है ,
जो पहले पड़ाव को पार करने की ख्वाइश रखते हैं ,
वो बाद में रोज़ अनियमित पथ पर भटकते हैं ।

ये जिस्मानी बदलाव एक स्वाभाविकता है ,
हर किशोर-किशोरी के मन की चंचलता है ,
इस चंचल मन पर लगाम लगाओ ….
अपनी इन्द्रियों को वश में करने का, एक "अभियान" चलाओ ।

माता -पिता और खानदान के नाम को आगे बढाना है ,
देश को अपनी सोच और सभ्यता से …ऊँचाई पर पहुँचाना है ,
इसलिए नवयुवकों में ….ऐसा ज़ज्बा भर दो ,
कि इस उमर को पार करने में ,वो समर्पित कर दें तन-मन को ।

"दृढ़ता" और "नयी सोच" …..तुम्हे सोने न देगी दिन-रात ,
हर छूने के ख़याल में …..तुम्हे महसूस होगा एक "पाप",
अपराध बोध से जीना ……… कोई जीना नहीं है,
इसलिए इस ख़याल को संभालो,जब तक सीने में तुम्हारे दम है।।





0

| Email this story Email this Poetry | Add to reading list



Reviews

About | News | Contact | Your Account | TheNextBigWriter | Self Publishing | Advertise

© 2013 TheNextBigWriter, LLC. All Rights Reserved. Terms under which this service is provided to you. Privacy Policy.