Save on all your Printing Needs at 4inkjets.com!

An Incomplete Story

By: praveen gola

Page 1, Read this Hindi love poem. Love is a pure feeling; lovers need not to be together always. Platonic love also writes a whole new love story.

उसकी लिखी किसी भी कहानी में ………मेरा नाम न आया ,
फिर भी उसके लिखे हर शब्द में …..मैं कहीं न कहीं समाया ।

बिना किसी रिश्ते के …..वो इस कदर ……मेरे दिल~ओ ~दिमाग में छाया ,
कि अब साँसे भी गिनता हूँ ……..तो लगता है …..कि उनमे उसका अक्स है पाया ।

इश्क में अक्सर लोग …..”जिस्मानी जुड़ाव ” के कदरदान होते हैं ,
लेकिन कभी-कभी “मानसिक जुड़ाव” भी ……ऐसे इश्क में अपना नाम सँजोते हैं ।

ये मैंने सिर्फ ……कोरे-कागज़ पर लिखे शब्दों से ….पढ़कर ही नहीं फ़रमाया ,
इस जुड़ाव का एहसास मैंने हर पल …..उसके साथ बिताए लम्हे से अजमाया ।

हम दोनों ही थे …..दो अलग-अलग नावों पर …..सवार हुए नाविक ,
हाथ में पतवार थामे खेमे जा रहे थे ……..अपनी नईया को होकर भावुक ।

सिर्फ एक हल्का सा टकराव …..हमें एक-दूसरे के …..इतने करीब ले आया ,
कि नावें तो वही रहीं ……मगर उनकी पतवार में ……एक बदलाव आया ।

अपनी-अपनी नईया में बैठकर ही ……हम अपने विचारों को ……एक-दूसरे से मिलाने लगे ,
वो उधर से …….और हम इधर से ……एक मीठा सा गीत गुनगुनाने लगे ।

रास्ता हमारा तय था ……मंजिल भी अपने लक्ष्य पर मेहरबान थी ,
बस थोड़ी देर साथ चलने की ………हम दोनों की …..ये खूबसूरत सी “Demand” थी ।

एक ऐसी चाहत ……..जिसमे चारों ओर से ……..हम सुरक्षित थे ,
फिर भी हर सुरक्षा में भी ……अपनी मस्ती में मस्त थे ।

बिना किसी रिश्ते और नाम के ……हम “मानसिक मोहब्बत” की …..डोर में बंधने लगे ,
इश्क ऐसा भी होता है ……..ये सोचकर …..जोर-जोर से हँसने लगे ।

ऐसे इश्क को लोग ……शायद ही कभी समझ पायेंगे ,
क्योंकि इस इश्क में ……..सिर्फ दो आत्मायों के …….दिल ही मिल पायेंगे ।

इसलिए जब भी कभी आपको ये लगने लगे ………कि आप भी ऐसे इश्क के गुलाम हैं ,
तो उस इश्क को एक “कहानी” समझें ………..और उसके कथाकार को ……न कोई नाम दें ।

उसकी लिखी किसी भी कहानी में ……..मेरा नाम आज तक न आया ,
क्योंकि उसकी लिखी हर कहानी को ……मैंने हर पल अधूरा ही पाया ।।

© Copyright 2014praveen gola All rights reserved. praveen gola has granted theNextBigWriter, LLC non-exclusive rights to display this work on Booksie.com.

© 2014 Booksie | All rights reserved.