Welcome Visitor: Login to the siteJoin the site


Tags: Bride, And, Marriage


A New Bride is Like a New Born Baby,Needs tender and care to Brought Up,She is a carrier of your Dynasty,Needs Love and affection to Sum Up!


Submitted:Jan 23, 2013    Reads: 5    Comments: 0    Likes: 0   


woman-hand-heart

कल तक था जो फूल बाग़ का ….
उसपर ओस की बूंदों का कहर ढाया ,
दिखने में वो लगता खूबसूरत ,
लेकिन मन ही मन कहीं मुरझाया ।

नादान सी चिड़िया थी वो कल तक …..
अपने बाबुल के नीड़ में ,
कुछ घंटों में ही बदल गयी दुनिया ,
पहुँची जब दूजे की दहलीज़ में।

कल जो कहलाती थी "लड़की",
आज कहलाने लगी वो "औरत",
"दुल्हा" भी तो "लड़का" था लेकिन ,
उसके लड़कपन से … न हो किसी को हैरत ।

"बहु" के लिए सब मायने बदले ,
जल्दी उठने के फबते सब कसते ,
सारे घर के सौंप के काम …..
सास कहे- "अब मिला मुझे आराम"।

बेटे की "मर्दानगी " …..हरदम रहे सर पर ,
बीवी नहीं ……..वो लाया है नौकर ,
काम ख़तम हो जब घर का पूरा ,
बचा तब काम, "पति का मन" भरने का अधूरा ।

मेहमानों के आवभगत की चाकरी ,
सबके सामने खूंटे से बंधी बकरी ,
रह-रह कर "उसको" सब ताने कसते ….
कि क्यूँ नहीं सिखाये, मायके वालों ने निभाने रिश्ते ?

उसके दर्द को किसी ने न जाना ,
कि क्या चाहती है "वो" ससुराल वालों से पाना ?
पैसे धन का लोभ नहीं उसको ,
सिर्फ "सम्मान" की चाहत पल भर को ।

सदियों से चला आ रहा है …. "ससुराल" भारत का ,
जहाँ पुरुष प्रधान होता है ….हर ताक़त का ,
स्त्री का विरोध होता नहीं …. मंज़ूर जहाँ पर ,
लांघे गर वो सीमाएं तो दिया ….घर से निकाल यहाँ पर ।

आजकल "शादी" बन गयी है सिर्फ "पैसों" का लोभ ,
दहेज़ सज़ा अपने घर में …लें दुल्हन से प्रतिशोध ,
दूसरे की "बेटी" को बना देते हैं ……"किसान",
जो खेत जोते दिन-रात, ताकि "साहूकार" के हो पूरे "दाम"।

कल भी "औरत" त्रस्त थी ……आज भी त्रस्त है ,
कल नए विचारों को समझने की कमी थी ,
आज उन विचारों को समझ कर ….
कुचल देने की परम्परा प्रचलित है ।

समझना होगा "बुजुर्गों" को भी अब ……..
कि बहु भी अभी "नासमझ और नादान " है ,
एक "चिड़िया" थी कल किसी के बाग़ की ,
जो सजाने आयी अब "गुलिस्तान" है ।।

A Message To All-

A New Bride is Like a New Born Baby,

Needs tender and care to Brought Up,

She is a carrier of your Dynasty,

Needs Love and affection to Sum Up!





0

| Email this story Email this Poetry | Add to reading list



Reviews

About | News | Contact | Your Account | TheNextBigWriter | Self Publishing | Advertise

© 2013 TheNextBigWriter, LLC. All Rights Reserved. Terms under which this service is provided to you. Privacy Policy.