Welcome Visitor: Login to the siteJoin the site

Moral values-A Glance

Poetry By: praveen gola
Literary fiction


Tags: Moral, Values


This Hindi Poem Moral Values highlights downfall of moral values in youth. Digital media and social network play important role in shaping moral values.


Submitted:Dec 22, 2012    Reads: 13    Comments: 0    Likes: 0   



computer-girl-photo-inside

Effect of Digital Media & Social Network: Hindi Poem Moral Values

हो रहा है आज ……..हमारे नैतिक मूल्यों का पतन,
कर रहे हैं छात्र ……….कंप्यूटर शिक्षा पाने का प्रयत्न ।

दे रहे हैं सीख ………हर विद्यालय के अध्यापक ,
कि "प्रोजेक्ट" पूरा करो अपना ,"गूगल " पर से डाउनलोड ले कर ।

अभिभावकों की क्या कहें ,वो खुद बन चुके हैं "mediator ",
अगर अध्यापक की न सुनें ,तो सहना पड़ेगा संतान का "Rude Behaviour"।

लगाकर दिया "Internet" उन्हें ,सोचा कि वो कक्षा में अव्वल रहेंगे ,
बेचारे क्या समझे की वो "प्रोजेक्ट" के बहाने ,"Internet" पर "chatting" करेंगे ।

रात-दिन Facebook ,Twitter पर, tweets हो रहे ज़ोरों से,
सुबह में आँखें मलते हुए कहा, कि छूट गए अपने सपनो से ।

भाग रहे हैं स्कूल, जल्दी-जल्दी से अपना बस्ता टाँगे ,
न की पूजा ,न दिया आदर बड़ो को ,लगा दिया सब सम्मान ठिकाने ।

क्लासरूम में "smartfone ", है बन गया एक और नया फैशन,
"Internet Surfing" की नसीहतें देने का ,बन गया एक और "Passion "।

सिर्फ T .V ,सिर्फ Mobile ,सिर्फ Internet ,ही है अब "Moral Values" उनके ,
"Moral Science "भी होता था कभी कोई "Subject " ,ऐसे "Subject" से वो रहे अछूते ।

"Gangrape ","Group Fighting","Fashion Shows " की News हैं याद रहती ,
क्या करें "Newspapers " में भी ,इन्ही सब की TRP 's दिखती।

"Grading System " बन गया है ,"Education" का एक और बवाल ,
Eighth Class तक तो नहीं रहा अब ,Pass -Fail होने का कोई सवाल ।

उसके बाद तो क्या कोई ,"Moral Values" का पाठ पढाएगा ?
इतनी "Moral Values " घर कर चुकेंगी ,की किसी का बाप भी उन्हें बाहर नहीं निकाल पायेगा ।

"Females " को बस "Ma'am "कहेंगे ,चाहे हो उम्र में वो कितनी भी बड़ी ,
"Didi", "Aunty " कहना भी भूल गए वो ,कैसी नैतिकता उनमे भरी ?

झूठ की दीवार पर वो ,रेत के महल बना रहे हैं ,
क्या पता की उन महलों से ,वो अपने ही शामियानों को जल रहे हैं ।

गर जल्द ही न शुरू हुआ फ़िर से ….."Moral Science" जैसा Subject एक और बार ,
तो "Education System " दम तोड़ देगा ,इसलिए करो इस पर विचार बार-बार ,हज़ार-बार ।





0

| Email this story Email this Poetry | Add to reading list



Reviews

About | News | Contact | Your Account | TheNextBigWriter | Self Publishing | Advertise

© 2013 TheNextBigWriter, LLC. All Rights Reserved. Terms under which this service is provided to you. Privacy Policy.