Save on all your Printing Needs at 4inkjets.com!

You Are Colourful

By: praveen gola

Page 1, Hindi Poem on Holi: A lover is looking for a suitable colour (gulal) to celebrate Holi with his love but finds her beauty already has all the colours

लेने चला मैं ऐसा गुलाल ….
जो फबे तुम्हारे रंग पर बेमिसाल ,
जब देखा लाल रंग का गुलाल …
तो याद आए तुम्हारे गोरे से गाल ।

लेने चला मैं ऐसा गुलाल ….
जो फबे तुम्हारे रंग पर बेमिसाल ,
जब देखा हरे रंग का गुलाल …
तो याद आई तुम्हारी हिरनी सी चाल ।

लेने चला मैं ऐसा गुलाल ….
जो फबे तुम्हारे रंग पर बेमिसाल ,
जब देखा काले रंग का गुलाल …
तो याद आए तुम्हारे भूरे से बाल ।

लेने चला मैं ऐसा गुलाल ….
जो फबे तुम्हारे रंग पर बेमिसाल ,
जब देखा गुलाबी रंग का गुलाल …
तो तेरे सुर्ख लबों की सोच से मैं हुआ बेहाल ।

लेने चला मैं ऐसा गुलाल ….
जो फबे तुम्हारे रंग पर बेमिसाल ,
जब देखा बैंगनी रंग का गुलाल …
तो याद आई तेरी मीठी सी ….बोली कमाल ।

लेने चला मैं ऐसा गुलाल ….
जो फबे तुम्हारे रंग पर बेमिसाल ,
जब देखा पीले रंग का गुलाल …
तो यादों में थी …तेरे कानों की बाली ….जो देती थी ताल ।

लेने चला मैं ऐसा गुलाल ….
जो फबे तुम्हारे रंग पर बेमिसाल ,
जब देखा सतरंगी रंग का गुलाल …
तो याद आया था तेरा ….हर अंग विशाल ।

लेने चला मैं ऐसा गुलाल ….
जो फबे तुम्हारे रंग पर बेमिसाल ,
जब देखा नीले रंग का गुलाल …
तू आसमान में थी ….बुनती मेरी ….कल्पनायों के जाल ।

लेने चला मैं ऐसा गुलाल ….
जो फबे तुम्हारे रंग पर बेमिसाल ,
मगर इतने रंगों के देखे गुलाल ,
पर मिला न कोई ….अब तक तेरे लिए गुलाल ।

लेने चला मैं ऐसा गुलाल ….
जो फबे तुम्हारे रंग पर बेमिसाल ,
मैं खाली हाथ ही लौटा …..लिए ये सवाल ,
कि हर रंग में रंगी तू ……बनकर बवाल ।

जब तू पहले से ही थी …इतनी कमाल ,
फिर क्यों लेकर आऊँ मैं …तेरे लिए कोई गुलाल ?
तू है रंगों से रंगी ……एक मूरत विशाल  ,
चल बिन गुलाल के ही होली खेलें …..हम दोनों इस साल ।।

© Copyright 2014praveen gola All rights reserved. praveen gola has granted theNextBigWriter, LLC non-exclusive rights to display this work on Booksie.com.

© 2014 Booksie | All rights reserved.