Welcome Visitor: Login to the siteJoin the site

Love For HIM- A regard

Poetry By: praveen gola
Memoir


Tags: Love


Collection of Hindi Poems on Love illustrates that love can make someone position very special in one's life. The person she loves becomes identify for her.


Submitted:Dec 18, 2012    Reads: 7    Comments: 0    Likes: 0   


two-pink-rose

Love for HIM- Two Hindi poems

1. वो शख्स

वो शख्स मेरे लिए मेरी पहचान बनकर आया,
एक गुजरते हुए साल में नया साल बनकर आया ।

में तन्हाई में ढूँढा करती थी अक्सर जिस हाथ को ,
वो उस हाथ में मेरे लिए तकदीर लिखकर लाया।

वो शख्स मेरे लिए मेरी पहचान बनकर आया………

मैं हार कर ज़माने से लगी मायूसी को गले लगाने ,
वो उस मायूसी में मेरी जिंदगी को पढने आया ।

वो शख्स मेरे लिए मेरी पहचान बनकर आया……..

मैं बंद परिंदे की तरह एक साज़ गा रही थी ,
वो उस साज़ में मेरे लिए एक आवाज़ लेकर आया ।

वो शख्स मेरे लिए मेरी पहचान बनकर आया……….

मैं मूँद पलकें अपनी अँधेरे में जा रही थी ,
वो उन बंद पलकों पर सपने सजाने आया ।

वो शख्स मेरे लिए मेरी पहचान बनकर आया…………

मैं धडकनों को काबू करके साँसों से लड़ रही थी ,
वो उन धडकनों को सीने में फिर धडकाने आया ।

वो शख्स मेरे लिए मेरी पहचान बनकर आया………

मैं होठों से लेने में डरा करती थी जिन लफ्ज़ों को ,
वो उन लफ्ज़ों को अपने कानों से सुनने आया ।

वो शख्स मेरे लिए मेरी पहचान बनकर आया……..

मैं टूट कर अन्दर से ज़र्रा-ज़र्रा हो चुकी थी,
वो उस ज़र्रे को भी सुहागन बनाने आया ।

वो शख्स मेरे लिए मेरी पहचान बनकर आया……..

सब कहते हैं कि "खुदा" होता है यहीं पर ,
वो उस "खुदा" में मुझको मेरा अक्स दिखाने आया ।

वो शख्स मेरे लिए मेरी पहचान बनकर आया,
एक गुजरते हुए साल में नया साल बनकर आया ।

2. वो "क्या " है ?

वो "क्या " है, मैंने उसे क्या बना दिया ?
अपनी कवितायों का एक "नायक" बना दिया ।

वो बचने लगा है अब, मेरी ऐसी मोहब्बत देखकर …..
मैंने उसे ताजमहल का "शाहजहाँ " बना दिया ।

वो बनकर आया था एक दोस्त, मेरा दर्द बाँटने को ……
मैंने उसे उस दर्द का "मसीहा" बना दिया ।

वो साधारण सी सोच रखने वाला, एक आम आदमी है………
मैंने उस आम-आदमी को "खासम-ख़ास" बना दिया ।

वो क्यों मिला ,कैसे मिला ,ये एक अधूरी कहानी है ………
मैंने उसे उस कहानी का "कथाकार" बना दिया ।

वो तन्हाई में गर उठाएगा कभी,मेरी सोच पर सवालात ……..
मैंने जो लिया था उससे कभी उसे वो सब लौटा दिया ।।





0

| Email this story Email this Poetry | Add to reading list



Reviews

About | News | Contact | Your Account | TheNextBigWriter | Self Publishing | Advertise

© 2013 TheNextBigWriter, LLC. All Rights Reserved. Terms under which this service is provided to you. Privacy Policy.