Save on all your Printing Needs at 4inkjets.com!

December ( A Ghazal in Hindi)

By: ashi17

Page 1, A Ghazal for my Asain readers.

ये सर्द हवा, धुँध, बर्फ- सी हर तरफ़ और िसमटे से हम,
दिसम्बर का मिज़ाज, कुछ-कुछ तुम सा लगता है।

छलकती मस्तियाँ, शरारते और कोने में सुस्त पड़े हम,
दिसम्बर भी मनमौजी और कुछ दग़ाबाज़-सा लगता है।

वो मूँगफलियाँ, गर्माहट की तलाश में धूप ढूढते हम,
िदसम्बर तू तो लूका-िछपी का एक खेल-सा लगता है।

वो सन्नाटा हर तरफ़, जमे-सूखे पेड़ और सूनी सड़कें
िदसम्बर तेरा हाल भी कुछ मेरे दिल-सा लगता है।

 

Yeh sard hawa, dund, barff-se har tariff aur semtay say hum,

December ka mejjaz, khuch-khuch tum sa lagta hai.

 

Chalakte masteyaan, sharartey aur kone main sust pare hum,

December bhi manmoje aur khuch daghabaaz-sa lagta hai.

 

Who mugphaleyaan, garmahat ki talash main dup dundtay hum,

December tu to luka-chepe ka ek khel-sa lagta hai.

 

Who sannata har taraf, jamay-sukhey payr aur sunne sarkey,

December teera haal bhi khuch mere dil-sa lagta hai.

 

© Copyright 2014ashi17 All rights reserved. ashi17 has granted theNextBigWriter, LLC non-exclusive rights to display this work on Booksie.com.

© 2014 Booksie | All rights reserved.