Save on all your Printing Needs at 4inkjets.com!

Koi Khwaish Se Dabae Hai (Ghazal in Hindi)

By: ashi17

Page 1, A Ghazal for Asian readers.

कोई खुआईश-सी दबाई है

*************************

क़ब्र पर उसकी, फकद इतना िलखना
इक रूह है जो मुद्दतो के बाद सोई है।
इक जिस्म था, खुबसूरत-सा तराशा हुआ,
और उसमें एक ज़ख़्मी-सी रूह ढोई है ।

ऐ अब्बर कहीं और जाकर बरसना
के उस की आँखे, छुपके ताउम्र रोई है।
गुलाबों से कह दो, के सरहाना दे दें,
वो तो हसीन से खुआबो में खोई है।

ज़िंदगी तो थी जब,वो ज़िंदा कहाँ थी तब,
उसने खामोशी से रस्में-दुनिया निभाई है,
ऐ हवा ज़रा, उस तरफ से निकल आना,
जहां से उस के महबूब की खूशबू आई है।


सब मिलके खूब बहा लो, आँसू ज़ार-ज़ार
उसने तो मुस्कुराने की ही क़सम खाई है।
उसकी ख़ामोशी को तुम क्या समझते,
तुमने तो शोरोंगु़ल में ज़िंदगी बिताई है।

गिली सी मिट्टी में है, पर उस़े गिला नही कोई,
लहरो से खेली है और तूफ़ानों से लड़ाई है।
आँखे बंद है, लबो पर बिखरी है मुस्कुराहट,
कुछ राज़ है दफ़्न , कोई खुआईश-सी दबाई है।

Koi khwaish se dabae hai

***************************

Kabar per uske, phakad etna lekhna,
Ek ruh hai jo muddaton kay baad soye hai.
Ek jism tha, khubsurat-sa tarasha hua,
Aur usmain ek zakhmi-se ruh dhoe hai.

Aye abbar kahin aur jaker barasna,
Kay uske ankhen, chupkey taummar roye hain.
Gulabo say kheh do, kay sarhana day dayain,
Woh to haseen say khuabo main khoi hai.

Zindagi to thi jab, woh zinda khahan thi tab,
Usney khamoshi say rasmay-duniya nebhai hai.
Aye hawa zara, us taraf say nekal aana,
Jahan say uskey mehboob ke khusbu aye hai.

Sab meelke khub baha lo, aasu Zar Zar,
Usne to muskurane ke he kasam khe hai.
Uske khamoshi ko tum keya samajhtey,
Tumne to shoroghul main zindagi betai hai.

Gele se metti main hai, per usay gela nahin koi,
Lehro say khele hai aur tufano say larai hai.
Ankhen band hain, labo per bejhre hai muskurahat,
Khuch raaz hai daffan sath main, koi khwaish se dabae hai.





© Copyright 2014ashi17 All rights reserved. ashi17 has granted theNextBigWriter, LLC non-exclusive rights to display this work on Booksie.com.

© 2014 Booksie | All rights reserved.