Save on all your Printing Needs at 4inkjets.com!

Maff (A Ghazal in Hindi)

By: ashi17

Page 1, A Ghazal in Hindi for Asian readers.

माफ़

तेरी उल्फ़त की गिरफ़्त से, मैं निकल तो आया,
पर एक दर्द- सा है मुझ में, जो इस ज़िंदगी में है पाया।


हुँ तेरा मैं मुजरिम, और ख़ामोश तलबगार भी, बेपनाह,
तराश सकता दिल तो िदखा देता, अक्स जो मुझ में समाया।


अहसास तेरी तंहाई और ग़म का है मुझे इस क़दर,
बेवफ़ा नही, बुज़दिल सही, मजबूर था मैं बहुत।

तेरे आँसु, तेरी आह, तेरी हर तड़प का अहसास है,
ख़ुश कहाँ मैं भी दूर रहकर, एक अधुरापन साथ है।


मेरा हर वो गुनाह क़ुबूल मुझे, तेरी हर सजा को तैयार मैं ,
कुछ मुझ को तू समझ ले, कुछ मुझ को माफ़ कर।

Maff

Teere ulfat ki geraft say, main nekal to aaya,
Per ek dard-sa hai mujh main, jo es zingagi main hai paya.

Hu teera main mujrim, aur khamosh talabgaar bhi, baypanah,
Tarash sakta dil to dekha dayta, aks jo mujh main samaya .

Ahsaas teere tanhae aur gam ka hai mujhey,
Baywafa nahin, buzdil sahi, majbur tha main bahoot.

Teere aasu, teere aah, teere tarap ka ahsaas hai,
Khush kahan main bhi dur rehker, ek adurapan sath hai.

Meera har woh gunah kubool mujhey, teere har saza ko tiyaar main,
Khuch mujh ko tu samaj lay, khuch mujh ko maff ker.

© Copyright 2014ashi17 All rights reserved. ashi17 has granted theNextBigWriter, LLC non-exclusive rights to display this work on Booksie.com.

© 2014 Booksie | All rights reserved.