Welcome Visitor: Login to the siteJoin the site

Ruho ki bandesheyn (A Ghazal in Hindi)

Poetry By: ashi17
Poetry


Tags: Ghazal, Hindi, Love


A Ghazal for Asian readers.


Submitted:Apr 21, 2013    Reads: 47    Comments: 5    Likes: 3   


रूहों की बंधदिशे

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>

रहने दो हम आशिक़ों का कोई मज़हब नही होता........
इक रूह होती है, जो दूसरे को महसूस करती है।
किसी भी ज़ुल्म से, मिटाना नामुमकिन होता है।
एक दिल है जो धड़कता है सीने में, जूनून ज़हनो में पलता है।

रहने दो हम आशिक़ों का कोई मज़हब नही होता.......
ना टटोलो ज़ात हमारी, ना तोलो झूठे रस्म-रिवाजों में,
ये मुहब्बत के ज़ज़्बे हैं, जज़्बातो की बाते हैं, रूहों की बंधदिशे हैं।
कुछ छेड़-छाड़, कुछ बाते हंै प्यार की, बहुत रूठना-मनाना होता है।

रहने दो हम आशिक़ों का कोई मज़हब नही होता......
हमारे जज़्बात हमारी दौलत हैं, मुहब्बत हमारी पहचान,
कब और किस मोड़ पर मिल जाएँगे, कुछ पता नहीं होता
कुछ अधपक्के ख्याब हैं, और कुछ दर्द खु़द में छुपाया होता है।

रहने दो हम आशिक़ों का कोई मज़हब नही होता.......
हम ख़ुदा के बंदे है, पर उसकी बंदगी के नाम पर नहीं कमाते,
दिल की बातें हैं, दिल से करते हैं, उसी के लिए जीते हैं, जिस पर मरते हैं,
साथ मिले या जुदा हो जाए, साँसों में उसी के िसलसिले चलते हैं।

रहने दो हम आशिक़ों का कोई मज़हब नही होता.................

361932555_b4270f507f_z.jpg?zz=1

Rukho ki bandesheyn

...............................................

Rehne do hum aashiquo ka koi mazzahab nahin hota,
Ek roh hote hai, jo ek dusray ko mehsus kerte hai,
kese bhi zulm say, metana namumkin hota hai,
Ek dil hai jo darakta hai senay main, junoon zehno main palta hai.

Rehne do hum aashiquo ka koi mazzahab nahin hota,
Na tatolo zaat hummare, na tolo juthay rasam revajo main,
Yeh mohabbat kay jazbay hain, jazzbato ki bataan hain,rukho ki bandesheyn hain,
Khuch chayr-char, khuch baataan hain pyaar ki, bahoot ruthna-manana hota hai.

Rehne do hum aashiquo ka koi mazzahab nahin hota,
Hummare jazzbat hummare dolat hain, mohabbat hummare pehchan,
Kab aur kis mor per mil jayegay khuch pata nahin hota,
Khuch adhpakkay khub hain, aur khuch dard khud main chupaya hota hai.

Rehne do hum aashiquo ka koi mazzahab nahin hota,
Hum Khuda kay banday hain, per uske bandage kay naam per nahin kamatay,
Dil ki baatay hain, dil say kartay hain, usey kay leyay jeetay hain, jis per martay hain,
Sath melay ya juda ho jaye, sasoo main usey kay silselay chaltayn hain.

Rehne do hum aashiquo ka koi mazzahab nahin hota..............................








3

| Email this story Email this Poetry | Add to reading list



Reviews

About | News | Contact | Your Account | TheNextBigWriter | Self Publishing | Advertise

© 2013 TheNextBigWriter, LLC. All Rights Reserved. Terms under which this service is provided to you. Privacy Policy.