Welcome Visitor: Login to the siteJoin the site

SARHAD ( A Ghazal in Hindi)

Poetry By: ashi17
Poetry


Tags: War


This poem is about the feelings of a soldier. I dedicate this poem to one of my fan "Omer", who demanded me to write on this topic.


Submitted:Oct 2, 2012    Reads: 230    Comments: 9    Likes: 8   


सरहद

वो सरहद के उस पार झाड़ियो में, ख़ुद को महफ़ूज़ समझा,
और मेरे ट्ेगर दबाते ही एक 'आह' लेकर मर गया ।
मैं ख़ुशी से झूम उठा,मेरी फैरीसत में एक और
कामयाबी का बढ़िया नाम इस 'शोर' से जुड़ गया ।

तभी ख़याल आया के, ज़रा इस फौजी का झाड़ा तो लू,
जिसे 'मार गिराया' मैंने, उसका नामो हैसियत तो जान लू ।
मैंने उस ख़ून से तरबतर, लाश को 'ठोकर' मारकर पलटा,
जेब को टटोलकर देखा, एक मसोसा हुआ काग़ज़ निकला ।

शायद ये उसे बेहद अज़ीज़ था, तभी दिल के अपने रखा
उसने इतने 'क़रीब' था, उसमें कुछ यू पढ़ा मैंने ।
ऐ मेरे हमदम, ऐ मुझे चाहने वाले, कब आओगे
'वापिस' वहाँ से, पूछते है सभी हमारे जानने वाले ।

माँ बिलखती है तुम्हारी, अबू भी आँसू छुपाते हैं,
हम सब साथ होकर भी, ख़ुद को 'तंहा' पाते हैं ।
मुन्नी की हँसी भी एक मुददत से, जाने कहाँ गुम है,
छोटू भी हर दम पूछता है जिसे, वो सिफ् 'तुम' हो ।

आँखे भी पथरा गई हैं मेरी, इन दरो दिवार को ताकते,
तुम्हारी बहन पूछती है, मेरे 'भाई' क्यों नहीं आते ?
मैं आख़ीर किस-किस को समझाऊँ, कब तलक इन्हें
'झूठी' उम्मीदें बंधाऊ, डरती हुँ, कही मैं ना बिखर जाऊँ।

मेरे महबूब, मेरे हमसफ़र, कब तलक मैं यू ही गुज़ारू,
ज़िंदगी का 'अजीब', तंहे- तंहा अपना ये सफ़र ।
जाने कब ख़त्म होगा ये, हमारी 'सरहद' का झगड़ा,
ऐसा करते हैं, हम वहीं बना लेते हैं अपना घरौंदा ।

मैं तुम्हारी हुँ, हमेशा तुम्हारी ही रहूँगी, जहाँ जाओगे,
मैं साथ तुम्हारे ही, हो लूँगी , हमेशा से तुम्हारी 'चाँदनी' ।
पढ़कर ख़त उस मासूम का, मैं अंदर तक हिल गया,
आह! ऊपर वाले ये अंजाने में, मुझ से क्या हो गया ।

मैं नादान, जिसे जीत समझा, वो तो मेरी भी हार है,
एक अकेला 'जवान' नहीं, मैंने तो मारा, पूरा परिवार है ।
हाय, वो फ़ौजी सिफ् , एक 'फ़ौजी' ही कहाँ था ?
उस शक्स से तो उसका, पूरा परिवार 'जुड़ा' था ।

वो दुश्मन का साया कहाँ, एक मुझ-सा ही इंसान था,
मेरी ही तरह वो बेटा, बाप, 'शौहर' और भाई था ।
जाने कब तलक चलेगी, सरहद की जंग यू ही ?
रंगते रहेंगे ख़ून से, हम अपने हाथ यू ही ।

ऐ ख़ुदा! ये बिखरी लाशें, धमाके, ये ख़ून से सनी ज़मीन,
ये बिलखते बच्चे, तड़पती औरतें,क्या तुझे नहीं 'हिलाते' ?
क्या तू नहीं सोचता के, क्यों है इंसा, ख़ून का प्यासा?
क्या इसी लिए तूने, दुनिया के इस 'इंसान' को है बनाया?

alt

******************************************************

SARHAD

Who sarhad kay us par jhareyoon main, khud ko mehfuse samjha,

Aur mere trigger dabatey he ek, 'ahh' layker mar gaya,

Main khushi say jum utha, mere fahrest main ek aur

Kameyaabi ka bareya naam es 'shor' say jur gaya.

*

Tabhi khayal aaya kay, zara es fouji ka jhada to lu,

Jesay 'maar geraya' maine, uska naam-o-hayseyaat to jaan lu,

Maine us khun say tar-batar, lash ko 'tokar' marker palta,

Jayb ko tatolker dekha, ek masosa hua kagaz nekla.

*

Shayaad yeh usay bayhad aziz tha, tabhi dil kay apney rakha

Usnay etnay kareeb tha, usmay khuch yu parah maine,

Aye mere humdam, aye mujhey chahanewalay, kab aaogay

'wapis' wahan say, puchtay hain, sabhi hammare jannay walay.

*

Maa belakhte hai tumhare, abbu bhi aasu chupatay hain,

Hum sab ek sath hoker bhi, khud ko 'tanha' patay hain,

Munni ki hasi bhi ek muddat, say jane khahan gum hai,

Chotu bhi har dam puchta hai jesay, woh sirf 'tum' ho.

*

Ankhey bhi patrah gayen hain mere, en dar-o-deewar ko taktay,

Tumhari behaan puchte hai, mere 'bhai' keyu nahin aate ?

Main akhir kis-kis ko samjho, kab talak enhey,

'juti' umeeday bandhau, darti hu, kahin main na bekhar jau.

*

Meerey mehboob, mere hum safar, kab talak main yu he guzaru,

Zindagi ka 'azeeb' tanhe-tanha apna yeh safar,

Jane kab khatam hoga yeh, hamari 'sarhad' ka jhagdah,

Aysa kertay hai, hum wahin bana laytan hain, apna gharoonda.

*

Main tumhari hu, tumhari he rahugi, jahan jaogay,

Main sath tumhare he, ho lunge, hamesha say tumhare 'chandani',

Padh ker khat us masoom ka, main andar tak hill gaya,

Ahh! Uppar wallay yeh anjane main, mujh say keya ho gaya.

*

Main nadan, jesay jeet samjhah, who to mere bhi haar hai,

Ek akayla 'jawan' nahin, maine to mara pura parewaar hai,

Hai ! who fouji sirf ek "fouji' he kahan tha ?

Us shakas say to uska, pura parewaar 'jura' tha.

*

Who dusman ka saaya kahan, ek mujh-sa he insaan tha,

Mere he tarah who, bayta, baap,'shuhar' aur bhai tha,

Jaane kab talak chalayge, sarhad ki jang yu he ?

Rangtay rahangay khun say, hum aapnay haat tu he ?

*

Aye khuda! Yeh bekhre lashay, damakay, yeh khun say sane zameen,

Yeh belakhtay bacchay, tarapte aurtayn, keya tujay nahin 'hilatay"?

Keya tu nahin sochta kay, keyu hai insaa, khun ka peyasa ?

Keya esley tune, duniya ka es 'insaan' ko hai banaya ?

alt





8

| Email this story Email this Poetry | Add to reading list



Reviews

About | News | Contact | Your Account | TheNextBigWriter | Self Publishing | Advertise

© 2013 TheNextBigWriter, LLC. All Rights Reserved. Terms under which this service is provided to you. Privacy Policy.