Welcome Visitor: Login to the siteJoin the site

Tanha (A Ghazal in Hindi)

Poetry By: ashi17
Poetry



A Ghazal in Hindi for Asian readers.


Submitted:Apr 28, 2013    Reads: 684    Comments: 3    Likes: 4   


तंहा
******

वो जज़्बात थे मेरे, जो तुम महसूस ना कर सके
वो अनकही बातें थी, जो तुम सुन ना सके।
मेरी बेबाकी, लफ्ज़ो के क़ाफले में खो गई,
जो ख़ामोशी में घुट गया, वो शोर तुम सुन ना सके।

दास्ताँने कई हैं, हमारी एक अधुरी दास्ताँ में,
लफ़्जो की कमी है, तेरे और मेरे दरमियाँ में,
कुछ वक़त बेवफ़ा है, जो दौड़ता ही जाता है,
कुछ अजनबी-सा रिश्ता है, जो समझ से परे है।

ज़िंदगी है की उलझी है, तमाम झमेलो में
तू है कि गुम है, दुनिया के अजीब मेलों में
मैं कल भी तंहा थी, साथ में तेरे होकर भी,
मैं आज भी अकेली हुँ, और कुछ नज़र नही आता।

images?q=tbn:ANd9GcSN-VhzfzvAVlLT9yEOzqv

Tanha
*********

Woh jazbaat thay meeray, jo tum mehsus na ker sakay,
Woh ankahi baatay thi, jo tum sun na sakay,
Meere baybaki, lafzo kay kaflay main kho gaye,
Jo khamoshi main gut gaya, woh shor tum sun na sakay.

Dastaane kai hain, hummare ek adhure dastaan main,
Lafzo ki kami hai, teere aur meere darmeyaan main,
Khuch waqt baywafa hai, jo dordta he jata hai,
Khuch ajnabi-sa rishta hai, jo samaj say pare hai.

Zindagi hai ki uljhe hai, tammam jhamaylo main,
Tu hai ki gum hai, duniya kay maylo main,
Main kal bhi tanha thi, sath main teere ho ker bhi,
Main aaj bhi akayle hu, aur khuch nazar nahin aata.





4

| Email this story Email this Poetry | Add to reading list



Reviews

About | News | Contact | Your Account | TheNextBigWriter | Self Publishing | Advertise

© 2013 TheNextBigWriter, LLC. All Rights Reserved. Terms under which this service is provided to you. Privacy Policy.