Welcome Visitor: Login to the siteJoin the site

Waqt (A Ghazal in Hindi)

Poetry By: ashi17
Poetry


Poem is about asking TIME from death angle as the responsibilities towards life is more important.


Submitted:Feb 7, 2012    Reads: 92    Comments: 13    Likes: 5   


वक़्त

**********

खौफ नहीं तुम्हारा मुझे, तुम जो भी हो,
पर कुछ ज़िमेदारियाँ हैं, मैं वक़्त चाहती हु.
मैं एक छतरी हु, मासूमो की, जड़ हु घर की,
कुछ मजबूरियां हैं, मैं वक़्त चाहती हु .
तुम कुदरत हो, तुमसे मुकरना, नामुमकिन है,
पर गुजारिश है कि, मैं वक़्त चाहती हु .
तुम में, बेचैनी है, और कर्रार भी, सुकू भी,
मिलूगी तुमसे मुस्कुराकर, ए मौत में वक़्त चाहती हु.




5

| Email this story Email this Poetry | Add to reading list



Reviews

About | News | Contact | Your Account | TheNextBigWriter | Self Publishing | Advertise

© 2013 TheNextBigWriter, LLC. All Rights Reserved. Terms under which this service is provided to you. Privacy Policy.