Welcome Visitor: Login to the siteJoin the site

dard dil ke mere

Poetry By: milap singh
Poetry


milap singh dwara likhi gai is shayari me insan ki ek anya fitrat ke bare me parkash dala gya hai ki jab insan ka ascha vakt aa jata hai to vh apne bure vakt ko kitni jaldi bhool jata hai.


Submitted:Dec 7, 2012    Reads: 3    Comments: 1    Likes: 1   


दर्द दिल के मेरे

दर्द दिल के मेरे जब से कम हो गये

दुनिया की भीड़ में फिर से गुम हो गये

पहले खुद को जर्रा समझता था मै

दिन क्या बदले फिर से हम हो गये

फिर से हुस्न पर निखार आने लगा

शबनमी होंठ फिर से नम हो गये

फिर से जिन्दगी की तरफ देखने लगे

मर मिटने के खाब बरहम हो गये

फिर से खोने लगा दिल रंगीनियों में

हर हसीन चेहरे अपने सनम हो गये

मिलाप सिंह





1

| Email this story Email this Poetry | Add to reading list



Reviews

About | News | Contact | Your Account | TheNextBigWriter | Self Publishing | Advertise

© 2013 TheNextBigWriter, LLC. All Rights Reserved. Terms under which this service is provided to you. Privacy Policy.