Welcome Visitor: Login to the siteJoin the site

Baachon Ki Si Muhabbat ---- A Hindi Poem

Poetry By: Vikas Sharma
Poetry


Tags: Hindi, Poem


A Take On Puppy Love


Submitted:Jan 21, 2013    Reads: 11    Comments: 0    Likes: 0   


सुनो .... बच्चो सी मुहब्बत कर लो मुझसे
लड़ना -झगड़ना, रूठना-मनाना.
दिन भर खेलना कूदना
शाम पड़े पर घर जाना
और सब कुछ भूल जाना

सुनो .... बच्चो सी मुहब्बत कर लो मुझसे
नयी सुबह नया खेल
गुड्डे गुडियों का मेल
हर दिन नया ताना-बाना
और गुड्डियों का ब्याह रचाना

पत्थर की गोटियों का
और कांच की गोलियों का
रोज़ रोज़ जीतना हारना
सभालना सिर्फ वही इक सरमाया
सुनो .... बच्चो सी मुहब्बत कर लो मुझसे

अम्मी-अब्बू को शिकायत की धमकी
और उनके खौफ से हमारा डर जाना
बात बात पर किताब पर हाथ रख
इल्म की कसमे खाना और निभाना
सुनो .... बच्चो सी मुहब्बत कर लो मुझसे

उसके खेल से निकलने पर
"मैंने भी नहीं खेलना" कह कर अड़ जाना
बिना लालच हरदम साथ निभाना
और कभी जानबूझ कर हारना और उसे जीताना
सुनो .... बच्चो सी मुहब्बत कर लो मुझसे

चोट लगे पर प्यार जताना
चुप बैठा हो तो शरारत कर भाग जाना
कभी सताना कभी मनाना
रूठा हो तो मनाये बगैर घर ना जाना
सुनो .... बच्चो सी मुहब्बत कर लो मुझसे

सुनो .... बच्चो सी मुहब्बत कर लो मुझसे
वोह सीधी बातें कहना और सुनाना
पल में तोला पल में माशा हो जाना
कभी तमाशा करना और कभी खुद तमाशा हो जाना
पर शाम ढले घर जाते ही सब बातों को भूल जाना

ज़माने की सी संजीदगी नहीं होती मुझसे
सुनो .... बच्चो सी मुहब्बत कर लो मुझसे

Suno …. Bacchon si muhabbat karlo mujhse
Ladna-jhagadna , roothna manaana
Din bhar khelna koodna
Shaam pade par ghar jaana
Aur sab kuch bhool jaana

Suno …. Bacchon si muhabbat karlo mujhse
Nayi subah naya khel
Gudde-guddiyon ka mel
Har din naya tana-bana
Aur guddiyon ka byah rachaana

Patther ki gotiyon ka
Aur kaanch ki goliyon ka
Roz roz jeetna haarna
Sambhalne ko sirf wahi ik sarmaya
Suno …. Bacchon si muhabbat karlo mujhse

Ammi-abbu se shikayat ki dhamki
Aur us khauf se humara darr jaana
Baat baat par kitaab par haath rakh
Ilm ki kasmein khana aur nibhana
Suno …. Bacchon si muhabbat karlo mujhse

Uske khel se nikalne par
"Maine bhi nahi khelna" keh kar ad jaana
Bina lalach hardam saath nibhana
Aur kabhi jaanbhoojh kar haarna aur usey jeetana
Suno …. Bacchon si muhabbat karlo mujhse

Suno …. Bacchon si muhabbat karlo mujhse
Woh seedhi baatein kehna aur sunana
Pal mein tola pal mein maasha ho jana
Kabhi tamasha karna aur kabhi tamasha ho jaana
Par sham dhale ghar jaatey hi sab baton ka bhool jaana

Zamane ki si sanzidgi nahi hoti mujhse
Suno …. Bacchon si muhabbat karlo mujhse





0

| Email this story Email this Poetry | Add to reading list



Reviews

About | News | Contact | Your Account | TheNextBigWriter | Self Publishing | Advertise

© 2013 TheNextBigWriter, LLC. All Rights Reserved. Terms under which this service is provided to you. Privacy Policy.