Welcome Visitor: Login to the siteJoin the site

Darshnik -- A Hindi Poem

Poetry By: Vikas Sharma
Poetry


Tags: Hindi, Poetry


A Poet's take on what superficial things it take for a child grows into an adult.

Dedicating the first publication on Booksie to one and only --- Soumi Guha Biswas, for she was the one to identify the writer in me. Without her, this poem would never had seen the light of the day.


Submitted:Jan 2, 2013    Reads: 109    Comments: 0    Likes: 1   


दार्शनिक

निरर्थक जीवन निरर्थक बातें
नकली चेहरे, झूठे मुखौटे
समझदारी की व्यर्थ चेष्टा
ईश्वर में भी झूठी निष्ठा
लालच से भरी हर मंशा
सिर्फ लोकप्रियता की आकांक्षा
खोखले पर सुंदर शब्दों का प्रयोग
सांसारिक व्यवहारिता का मनोयोग
लोगों के दृष्टिकोण की सदैव चिंता
और उधार ली हुई बौद्धिकता
चेहरे पर गंभीरता का पहनावा
जीवनशैली में झूठी शान का दिखावा
काम क्रोध लोभ से रहित होने का दावा

वास्तविकता से दूर सपनो का झूठा भुलावा
लो यह सब तैयार कर लिया मैंने
जैसे तैसे सब सीख लिया मैंने
अब मैं भी बच्चे से व्यसक बन जाऊंगा
स्वयं को समझदार दार्शनिक कहलवाऊँगा............





1

| Email this story Email this Poetry | Add to reading list



Reviews

About | News | Contact | Your Account | TheNextBigWriter | Self Publishing | Advertise

© 2013 TheNextBigWriter, LLC. All Rights Reserved. Terms under which this service is provided to you. Privacy Policy.