Save on all your Printing Needs at 4inkjets.com!

Humnawa ( Ghazal in Hindi)

By: ashi17

Page 1, A Hindi Ghazal for Asian readers.

हमनवाॅ
ंंंंंंंंंंंंंंंंंंंं
मुझ में तेरा कुछ हिस्सा है, जो दुनिया से छुपा कर ख़ुद में रखा है ।
तू लाख बुरा सही, ज़माने के लिए, मैंने तो तुझे हमनवाॅ बना रखा है ।

तुझ से लोग मुँह फेरे तो फेरै, तेरे हालातों से क्या लेना मुझे,
मैने तो तेरी हर हैसियत को भी अपना बना रखा है ।

होगे वो कोई और, हसीन मुहब्बत का दावा करने वाले,
मैंने तो तेरे दिए ज़ख़्मों को भी िदल से लगा रखा है ।

तू ना चाहे मुझे तो कोई ग़म नहीं, तेरी हमदर्दी भी रहने दे,
इबारत-सा किया है इश्क़ मैने, जिसमें तुझे दुआ बना रखा है ।


तेरी हर बात पर है यक़ीं मुझे, सच से बढ कर, फ़रेबो से भी हुँ बाख़बर,
ये मुहब्बत और मौत ही है हक़ीक़त, वरना ज़िंदगी में क्या रखा है ?

Humnawa
..................

Mujh main teera khuch hessa hai, jo duniya say chupa ker khud main rekha hai.
Tu lakh bura sahi, zamaney kay leye, maine to tujhey humnawa bana rakha hai.

Tuj say log muh phere to pheren, teere halaato say keya layna mujhey,
Maine to teere har hayseyaat ko bhi apna bana rakha hai.

Hongay woh koi aur, haseen mohabbat ka dawa kerne walay,
Maine to teere deye zakhmo ko bhi dil say laga rekha hai.

Tu na chahey mujhey to koi gum nahin, teere humdardi bhi rehne dey,
Ebadat-sa keya hai eshq maine, jis main tujhey dua bana rakha hai.

Teere har baat per hai yakee mujhey, sach se bar ker, parebo say bhi hu bakhabar,
Yeh mohabbat aur moot he hai haquekat, warna zindagi main keya rakha hai ?

© Copyright 2014ashi17 All rights reserved. ashi17 has granted theNextBigWriter, LLC non-exclusive rights to display this work on Booksie.com.

© 2014 Booksie | All rights reserved.