Save on all your Printing Needs at 4inkjets.com!

Mohabbat (A Ghazal in Hindi)

By: ashi17

Page 1, A Ghazal for Asian readers.

मुहब्बत

मुहब्बत कोई नशा होती, तो चढ़ कर उतर जाती,
मुहब्बत कोई मज़ा होती, तो आ कर चली जाती।

मुहब्बत अगर सज़ा होती, तो वक़त के साथ कट जाती,
मुहब्बत अगर आग होती, तो आधिंयो में बुझ जाती।


मुहब्बत अगर तलब होती तो, किसी से मिलकर मिट जाती,
मुहब्बत अगर तड़प होती तो, ग़म से दुनिया ख़त्म कर जाती ।

मगर यू तो होता नहीं, ज़िंदगी और बंदग़ी बा-दसतूर है,
मुहब्बत से आशना दिल से, कभी बंदगी भी नहीं जाती।

मुहब्बत इक जज़्बा है, हर दिल की आरज़ू है, ज़िंदगी है, रूह का नूर है,
राज़ कोई गहरा है बहुत, ज़हन का फ़ितूर सही, मगर कुछ तो ज़रूर है।


Mohabbat

Mohabbat koi nasha hote, to char ker uttar jate,
Mohabbat koi mazza hote, to aa ker chale jate.

Mohabbat agar sazza hote, to Waqt kay sath kat jate,
Mohabbat agar aag hote, to aadhiyoon main buj jate.

Mohabbat agar talab hote to, kese say milker mit jate,
Mohabbat agar tarap hote to, gham say duniya khatam ker jate.

magar yu to hota nahin, zindagi aur bandage ba-dastur hai,

Mohabbat say aashna dil say, kabhi bandage bhi jate nahin.

mohabbat ek jazzba hai, har dil ki aarzu hai, zindagi hai, ruh ka nur hai,

Raaz koi gehrah hai bahoot, zehhan ka fetur sahi, magar khuch to zaroor hai.






© Copyright 2014ashi17 All rights reserved. ashi17 has granted theNextBigWriter, LLC non-exclusive rights to display this work on Booksie.com.

© 2014 Booksie | All rights reserved.